Hindi News

हैप्पी बर्थडे नसीरुद्दीन शाह: महान अभिनेता के सर्वश्रेष्ठ संवाद

Naseeruddin Shah has demonstrated what amazing performances look like time and time again.
Written by bobby

हैप्पी बर्थडे नसीरुद्दीन शाह: महान अभिनेता के सर्वश्रेष्ठ संवाद : ऐसी कोई शैली नहीं है जिसमें इस शानदार कलाकार ने सामूहिक मनोरंजन से लेकर सामाजिक नाटक, कॉमेडी से लेकर थ्रिलर तक में हाथ नहीं आजमाया हो। अपने 47 साल के करियर के दौरान, उन्हें पद्म श्री और पद्म भूषण सहित कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सम्मान मिले हैं। उन्होंने दिखाया है कि अद्भुत प्रदर्शन बार-बार कैसे दिखते हैं, और उन्होंने दुनिया भर के हजारों लोगों को प्रभावित किया है। अपने अभिनय और भाषण के माध्यम से, वह अपने व्यक्तित्व के हर पहलू को कुशलता से पकड़ लेता है, जिससे दर्शक अपने कौशल से चकित हो जाता है।

उनके जन्मदिन के उपलक्ष्य में, हम उनके करियर के दस सबसे अविस्मरणीय संवाद प्रस्तुत करते हैं।

इश्किया श्रृंखला:

सात मुकाम होते हैं इश्क में… दिलकाशी, उनएसएस, मोहब्बत, अकीदत, इबादत, जूनून और मौत। दुनिया में सबसे गहरी दुश्मनी मिया बीवी की होती है।

चीन गेट:

हाथ में बंदूक लेकर अपने आप को बहादुर समाधान उतना ही आसान है जितना किसी निहत्ते को बुजदिल समाधान। कर्क से ज़्यादा ख़ूफ़नाक बिमारी तो आपकी रगों में दौड़ रही है नफ़रत की बिमारी, शक की बिमारी।

सरफरोश:

कुछ होश नहीं रहता, कुछ ध्यान नहीं रहता, इंसान मोहब्बत में इंसान नहीं रहता। हमारे ग़व बहुत गहरे हैं। वो इतनी आसान से नहीं भरने वाले।

इकबाल:

दिमाग और दिल जब एक साथ काम करता है ना तो फरक नहीं पद है की दिमाग कौनसा है और दिल कौनसा है। हम सब दुनिया में कोई एक खास काम करने के लिए हैं। ये दिमाग का खेल है जो दिल से खेला जाता है।

एक बुधवार:

भीद तो देखी होगी ना आपने? भीद में से कोई एक शकल चुन लिजिये, मैं वो हूं। मैं सिर्फ एक बेवकूफ आम आदमी हूँ। आपके घर में जब कॉकरोच आता है तो आप क्या करते हैं राठौर साहब? आप हमें मिलते नहीं मरते हैं। ये चार कॉकरोच मेरा घर गंडा कर रहे थे और आज मैं अपना घर साफ करना चाहता हूं। उन्होंने यह सवाल हमसे शुक्रवार को पूछा, मंगलवार को दोहराया… मैं सिर्फ बुधवार को जवाब दे रहा हूं।

गंदा चित्र:

जब शराफत के कपड़े उतरते हैं, तब सबसे ज्यादा मजा आता है। पब्लिक समान देखता है, दुख नहीं। हीरोइन की जिंदगी एक चुनी हुई सरकार की तरह होती है। पांच साल तक पार्टी, उसके बाद समर्थन।

About the author

bobby

Leave a Comment